गुजरात : मोदी-शाह के गढ़ पर है कांग्रेस की नजर, तीसरा चरण में होना है मतदान

0
146
गुजरात : मोदी-शाह के गढ़ पर है कांग्रेस की नजर, तीसरा चरण में होना है मतदान

90 के दशक में बीजेपी गुजरात की सियासत में अपनी ऐसी जड़ें जमाईं कि आज तक कोई चुनौती नहीं दे सका. विधानसभा से लेकर लोकसभा चुनाव तक बीजेपी की तूती बोलती रही. 1995 में बीजेपी गुजरात की सत्ता पर काबिज हुई. 2014 में बीजेपी को सबसे ज्यादा 26 सीटें मिली थी. इससे पहले के नतीजों को देखें तो 1991 में बीजेपी के खाते में 20 सीटें मिली थी, ये 2014 से पहले सबसे बेहतर परिणाम था. भाजपा 1996 में 16, 1998 में 19 और 1999 में 20 सीटें जीतने में सफल रही है.

गुजरात : मोदी-शाह के गढ़ पर है कांग्रेस की नजर, तीसरा चरण में होना है मतदान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस बार गुजरात से चुनावी मैदान में नहीं उतरे हैं, लेकिन बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह गांधीनगर सीट से चुनाव लड़ रहे हैं. यह सीट बीजेपी के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी की रही है, जिन्हें पार्टी ने इस बार टिकट नहीं दिया है. गुजरात बीजेपी की प्रयोगशाला मानी जाती है. ऐसे में नरेंद्र मोदी गुजरात में चुनावी प्रचार करते हुए सभी सीटों को एक बार फिर से जीतने की लगातार अपील कर रहे हैं.

गुजरात : मोदी-शाह के गढ़ पर है कांग्रेस की नजर, तीसरा चरण में होना है मतदान

लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की साख दांव पर लगी है. क्योंकि मोदी-शाह के गृह राज्य गुजरात की सभी 26 लोकसभा सीटों पर तीसरे चरण में 23 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे. पिछले दो दशक से यहां बीजेपी का एकछत्र राज कायम है. 2014 में बीजेपी गुजरात में क्लीन स्वीप करते हुए सभी 26 सीटें जीतने में सफल रही थी. लेकिन, 2017 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने जिस तरह से प्रदर्शन किया है. इसके बाद लोकसभा चुनाव में मोदी-शाह को अपने प्रदेश में बीजेपी के वर्चस्व को बरकरार रखने की कड़ी चुनौती है.

बता दें कि 2002 में गुजरात की सत्ता पर नरेंद्र मोदी विराजमान हुए तो लोकसभा चुनाव में बीजेपी की सीटें बढ़ने के बजाय घट गईं. 2004 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 14 और 2009 में 15 सीटें मिली थीं. हालांकि जब नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद के दावेदार बने तो गुजरात की सारी की सारी सीटें बीजेपी को मिलीं.

गुजरात में तीसरा चरण में होना है मतदान 

बीजेपी को गुजरात में दो दशकों में पहली बार कांग्रेस 2017 के विधानसभा चुनाव में कड़ी टक्कर देने में सफल रही थी. कांग्रेस भले ही बीजेपी को सत्ता से बेदखल कर सत्ता के वनवास को खत्म नहीं कर सकी. लेकिन गुजरात की राजनीति में पहली बार बीजेपी को 100 के आकंड़े को छूने नहीं दिया. बीजेपी को 99 सीटें मिली जबकि कांग्रेस 81 सीटें जीतने में सफल रही थीं. जबिक बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने गुजरात में 150 सीटों का टारगेट रखा था.

दरअसल कांग्रेस ने इन सीटों को जीतने के लिए इसलिए फोकस कर रही है कि विधानसभा चुनाव में इन सीटों पर नतीजे उसके पक्ष में थे. इसके अलावा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जिस तरह से किसानों के मुद्दे को उठा रहे हैं और गरीबों को 72 हजार रुपये सालाना देना का वादा किया है. इससे कांग्रेस को यहां और मजबूती की उम्मीद नजर आ रही है.

जबकि, नरेंद्र मोदी के लिए सत्ता में लगातार दूसरी बार अपने गृह राज्य गुजरात को जीतने की चुनौती है. ऐसे में अगर विधानसभा चुनाव की तरह लोकसभा चुनाव में सीटें घटती हैं तो मोदी और शाह के ऊपर सवाल उठना लाजिमी है. इसीलिए तीसरा चरण बीजेपी के इन दोनों शीर्ष नेतृत्व के लिए काफी अहम माना जा रहा है.

कांग्रेस ने गुजरात विधानसभा चुनाव के रण में बीजेपी को घेरने के लिए प्रदेश के तीन युवा नेताओं की तिकड़ी का इस्तेमाल किया था. इनमें से दलित नेता जिग्नेश मेवाणी, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर शामिल थे. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस दौरान जमकर मेहनत की थी. इसका नतीजा था कि 2014 में बीजेपी को जो 59.1 फीसदी मिले थे वह आंकड़ा 2017 में 10 फीसदी घटकर 49.1 फीसदी पर आ गया था. मोदी के गुजरात में रहते हुए कांग्रेस को गुजरात में लोकसभा चुनाव में बहुत ज्यादा नुकसान नहीं हुआ था.

अब जब लोकसभा चुनाव हो रहे हैं, तो अल्पेश ठाकोर कांग्रेस को अलविदा कह चुके हैं और जिग्नेश गुजरात के बजाय बिहार के बेगूसराय में कन्हैया के लिए प्रचार कर रहे हैं. जबकि हार्दिक पटेल कांग्रेस का दामन थाकर पार्टी को जिताने के लिए पूरी ताकत लगा रहे हैं.

कांग्रेस ने 2019 के लोकसभा चुनाव में गुजरात की 26 सीटों में से आधी सीटें जीतने का टारगेट फिक्स किया है.  कांग्रेस ने मिशन-13 का प्लाना बनाया है. ये सभी सीटें गुजरात के ग्रामीण इलाके की हैं, इनमें आणंद, अमरेली, बनासकांठा, साबरकांठा, पाटन, जूनागढ़, दाहोद, बारडोली, सुरेंद्रनगर, जामनगर, पोरबंदर, भरूच और मेहसाणा लोकसभा सीट शामिल हैं.

LEAVE A REPLY