बहादुरगढ़ में हवा हुई जहरीली एक्यूआइ लेवल 600 तक पहुंचा

0
117
बहादुरगढ़ में हवा हुई जहरीली एक्यूआइ लेवल 600 तक पहुंचा

पीएम 2.5 का स्तर औसतन 461 माइक्रोग्राम व अधिक 500 माइक्रोग्राम और पीएम 10 का स्तर औसतन 341 माइक्रोग्राम दर्ज किया गया। इस कोरोना काल में तो प्रदूषण का यह स्तर काफी खतरनाक माना जा रहा है। प्रदूषण के बढ़ते स्तर से चिकित्सकों के साथ-साथ पर्यावरणविद भी खासे चितित हैं। हवा काफी जहरीली हो गई है। लोगों की आंखों में लगातार दूसरे दिन जलन महसूस की गई। बुजुर्ग लोगों को तो सांसें लेने में भी परेशानी हुई।

खतरनाक 301-500 बाहर की गतिविधियों में भाग न लें सांस व दमा रोगी

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से ऐसे लोगों को बाहर की सभी गतिविधियों से बचने की सलाह दी गई है और जिन्हें अस्थमा है। उन्हें अपने पास दवाई रखने की सलाह दी गई है। एक्यूआइ इंडेक्स 150 से ज्यादा होने पर ज्यादा फिजिकल एक्टिविटी वाली एक्सरसाइज, क्रिकेट, हॉकी, साइकलिग, मैरॉथन से परहेज करें। प्रदूषण स्तर के 200 से ज्यादा होने पर पार्क में भी दौड़ने और टहलने ना जाएं। जब प्रदूषण स्तर 300 से ज्यादा हो तो लंबी दूरी की वॉक ना करें। जब स्तर 400 के पार हो तो घर के अंदर रहें, सामान्य वॉक भी ना करें। सांसों से शरीर में पहुंचे जहर को बाहर निकालने के लिए पानी बहुत जरूरी है। इसलिए पानी पीना नहीं भूलें। दिन में तकरीबन 4 लीटर तक पानी पिएं। घर से बाहर निकलते वक्त भी पानी पिएं। इससे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई सही बनी रहेगी और वातावरण में मौजूद जहरीली गैसें अगर ब्लड तक पहुंच भी जाएंगी तो कम नुकसान पहुंचाएंगी।

डा. बिजेंद्र दलाल, फिजिशियन, सिविल अस्पताल बहादुरगढ़। प्रदूषण काफी बढ़ गया है। सभी विभागों को सचेत किया जा रहा है। कूड़ा जलने की घटनाओं को रोकने के प्रयास किए जा रहे हैं। मौसम में हवा की गति मंद पड़ने के कारण प्रदूषण का स्तर बढ़ गया है।

LEAVE A REPLY